धनिया पत्ती के फायदे और नुकसान|Benefits Of Coriander Leaves

आज का आर्टिकल है एक ऐसे सब्जी कहिए पत्ता कहिए सलाद कहिए अगर आप भारतीय है तो आप सबके घर में उपलब्ध होता है और सर्दियों में तो इसक बिना सब्जी अधूरी लगती है चाहे चटनी बनानी हो या सब्जियों का टेस्ट बढ़ाना हो खुशबू बढ़ानी हो या फिर अलग अलग पकवान को सजाना हो धनिया पत्ती तो जरूर होती । परंतु खुशबू स्वाद और सुंदरता बढ़ाने के अलावा भी इसक बहुत से फायदे हैसबसे सस्ती आयुर्वेद का सर्वश्रेष्ठ रसायन जो आपको हमेशा जवान रखेगा| aawla ke fayde aur nuksaan

चलिए आज आपको आयुर्वेदिक गुणों के बारे में बताते है धनिया पत्ती के । धनिया पत्ती के फायदे और नुकसान|Benefits Of Coriander Leavesजो भी खाएगे पूरा पचेगा | Digestion kaise thik kare | how to improve digestion

धनिया पत्ती का स्वाद

इसके पत्ते का स्वाद हल्का कसैला फिर हल्का स मिथपन और फिर तीतापन आटा है फिर कटु स्वाद आटा है इसकी तासीर ठंडी होती है । इसका कई रूप से इस्तेमाल कर सकते है सीघाड़ा के फायदे और नुकसान |Water Chestnut Health Benefits

धनिया पत्ती उपयोग करने का तरीका

इसको कई तरह से उपयोग में ले सकते है

इसकी चटनी बना कर उपयोग कर सकते है ।

इसके पत्ते तोड़कर पीसकर एक गिलास पानी में एक से दो चम्मच चटनी डालकर स्वादानुसार नमक या मिश्री मिलाकर उपयोग करना फायदेमंद है। इसका काढ़ा बनाकर उपयोग कर सकते है ये 5 चीजें आपकी सेहत के लिए वरदान है

इसक पत्ते की चटनी एक से दो चमच पानी मे डालकर उबालकर आधा कर ले फिर स्वादानुसार नमक या मीठा मिलकर पी सकते है

इसक सबसे अच्छा फायदा इसके पत्ते का जूस पीने से है सर्दियों मे शरीर को गरम रखना है तो जरूर खाएं ये चीजें, रहेंगे फिट और हेल्दी| winter superfood

धनिया पत्ती कितना ले

इसकी मात्रा 1 चम्मच से दो चम्मच तक मतलब 5 से 10 ग्राम तक सुबह और शाम को ले सकते है खाने से पहले भी ले सकते है बाद में भी ले सकते है । 8 health warning sign| ये संकेत बताते हैंआपको कोई गंभीर health problem हैये symptoms इग्नोर न करें

गैस की बीमारी मे धनिया पत्ती के फायदे

जिन लोगों को गैस बहुत बनती है भूख कम लगती है या फिर बार बार गैस बनने से पेट फूल जाता है या आंतों में कही सूजन है तो इसके लिए चटनी या इसका पेस्ट पानी मे मिलकर देते है तो बहुत फायदेमंद है । Stop these 5 morning mistakes|सुबह की ये गलतिया आपकी सेहत के लिए खतरा है तुरंत बंद करें

धनिया पत्ता पेटकी बीमारी पाचन मे फायदेमंद है

जिन लोगों का पाचनतंत्र कमजोर है गैस हो रही है पेट दर्द होरहा है अंतड़िया लिवर और `पाचन तंत्र कमजोर है कुछ भी खाते है गैस बन जाती है पेट मे दर्दबहुत रहता है अंतड़ियों मे सूजन के कारण थोड़ा सा भी पेट दबे तो दर्द होता है पेट। तो उसक लिए इसकी चटनी का उपयोग करें या फिर इसके शर्बत का उपयोग करें । एक गिलास पानी में इसक पत्तियों की एक से दो चम्मच चटनी डालकर स्वादानुसार नमक या मीठा मिलाकर पी लीजिए मन हो तो नींबू डालकर सुबह शाम खाने खाने के बाद इस्तेमाल करने से पेट के सभी तरह के विकार दूर हो जाते है और आप एकदम से स्वस्थ हो जायेगे

धनिया पत्ता बुखार मे फायदेमंद है

बुखार से परेशान है बहुत ज्यादा आग निकल रही हो तो धनिये का शर्बत सुबह दोपहर और रात दिन मे तीन बार मिश्री मिलाकर इस्तेमाल करेगे तो पूरा लाभ मिलेगा गर्मी के दिनों मे इसका शर्बत बहुत लाभदायक होता है अगर इसका शर्बत पी कर गर्मियों के दिनों में बाहर निकले तो शरीर में पानी की कमी नहीं होती और लू नहीं लगती गर्मी की वजह से जो भी पपरेशानी होती है उससे राहत मिलती है । इसको पीकर बाहर निकले तो पनि की कमी और लूह नहीं लगती।

धनिये के अंदर एंटी फंगल अंटीऑक्सीडेंट और एंटी बैक्टीरियल गुण पाए जाते है जिसकी वजह से किसी भी तरह से कोई भी बैक्टीरिया वायरस हमारे शरीर को प्रभावित नहीं कर पाता और हमारा शरीर स्वस्थ रहता है ।

धनिया पत्ता शुगर मे फायदेमंद है ।

शुगर वाले मरीज को इसकी चटनी बहुत ज्यादा फायदेमंद है इसका नमकीन शर्बत बहुत फायदेमंद है ये आपके शरीर को ताकत देगा शुगर को कंट्रोल रखेगा और आपको भोजन करने से पहले इसे लेना है ।

धनिया पत्ता मिर्गी रोग में फायदेमंद है

मिर्गी से परेशान है जिनको सिर की नशों मे तांत्रिक तंत्र में जब कमी आ जाती है दौरे पड़ने लगे है जो खासह तौर पर इसमे ऐसे गुण पाए जाते है जो मिर्गी की बीमारी को ठीक कर सकते है आप इसका रस निकालकर तीन से चार बंद नाक में डालकर खींच सकते है आप इसकी चटनी बनाकर सुबह दोपहर रात को खान खाने के बाद इस्तेमाल कर सकते है फिर शर्बत शुबह शाम भोजन करने से पहले उपयोग कर सकते है , इसमे से कोई एक चीज जो आपको सही लगे कर सकते है इससे आपकी मिर्गी की बीमारी धीरे धीरे ठीक हो जाएगी

जो व्यक्ति हमेशा गुस्सा चिड़चिड़ापन टेंशन से परेशान रहते है रात को नींद नहीं आती सिर की नसों में खुश्की के कारण नींद नहीं आती सो भी जाते है तो दिमाग इधर उधर घूमता रहता है उनक लिए इसकी चटनी या फिर शर्बत इस्तेमाल करना बहुत फायदेमंद है क्योंकि ये हमारे शिर की नसों को ताकत भी मिलती है और सिर की खुश्की भी दूर होती है ।

टेंशन चिड़चिड़ापन गुस्सा डिप्रेसन और अनिन्द्र की बीमारी बिल्कुल खतम हो जाती है।

धनिया पत्ती सूजन में फायदेमंद है

जिन लोगों को शरीर में जगह जगह सूजन की बीमारी हो चाहे शरीर मे गुर्दे की कारण हो चाहे इन्फेक्शन के कारण हो तो उनके लिए धनिये का शर्बत या धनिये का चटनी बहुत फायदेमंद है । आप कोशिश यही करना की धनिये की जो चटनी इस्तेमाल कर रहे है उसमे सेंधा नमक कम से कम डालना ताकि आपके सूजन की तकलीफ एकदम जड़ से खतम हो सके ।

जिन लोगों को बार बार प्यास लगति है मुंह सूखता है हाथ पैर के तलवे से आग जैसे निकलती है पसीना बहुत निकलता है तो आपके लिए धनिये का शर्बत या चटनी इस्तेमाल करने से दाह रोग की शिकायत जड़ से खत्म हो जाएगी । प्यास थी हो जाएगी हाथपैर से दाह निकलती है वो ठीक हो जाएगा पसीना भी कंट्रोल हो जाएगा

धनिया उच्च रक्त छाप मे भी फायदेमंद है

जिन व्यक्तियों का कोलेस्ट्रॉल बहुत ज्यादा है जिन व्यक्तियों का खून बहुत ज्यादा है एलडीएल कोलेस्ट्रॉल बढ़ा है खून बहुत गाढ़ा है खराब कोलेस्ट्रॉल बढ़ा हुआ है और HDLकम है तो इसका शर्बत या चटनी का का इस्तेमाल करना बहुत ज्यादा फायदेमंद है । अगर आप इसका इस्तेमाल करते है तो आपके खून मे bad कोलेस्ट्रॉल है वो कम होने लगेगा और गुड कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगेगा , और कभी भी BP की बीमारी परेशान नहीं करेगी क्योंकि ये नसों नाड़ियों को लचिलापन बनाए रखता है उनम खून का दौरा बनाए रखता है BPबढ़ेगा ही

धनिया मूत्र रोग में फायदेमंद

पेशाब से जो व्यक्ति परेशान रहते है पेशाब खुलकर नहीं आता तो इसका शर्बत पिना बहुत फायदेमंद होता है पेशाब खुलकर आता है

धनिया पत्ता दमा के रोग में फायदेमंद

जो व्यक्ति दमा से परेशान है दमा हमरे श्वाश नली या फेफड़े में कमजोरी है मोटापा के वजह से हो या फिर एलर्जी से भी बढ़ जाता है गले में फेफड़े में इन्फेक्शन से हो जाता है बलगम जम जाती है स्वाश लेने से तकलीफ होती है उसकी वजह से भी दमा बन जाता है किसी भी कारण से है तो उसमे चटनी और शर्बत इस्तेमाल करना बहुत फायदेमंद है बस एक चीज ध्यान रखना है इसे खान खाने के बाद सुबह और दोपहर उपयोग करना है शाम या रात मे नहीं लेना है । इसमे ऐसे गुण पाए जाते हैं जो बलगम आसानी से निकल जाता है आपके स्वाश नली और फेफड़े को ताकत मिलती है जिससे दमा दूर हो जाता है । जो व्यक्ति मोटापा घटाना चाहते है और चाहते है किसी तरह की कमजोरी न हो तो आपको धनिया की चटनीऔर शर्बत बहुत फायदेमंद है उसे भोजन से पहले इस्तेमाल करे ताकि जो भी बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल है चर्बी हो धीरे धीरे पिघल कर निकल जाए ।

धनिया पत्ता थायरोइड केरोग में फायदेमंद

थाइरॉइड से जो व्यक्ति परेशान है ।उनके लिए भी धनिया का सेवन बहुत लाभकारी है हमारी थाइरॉइड की ग्रन्थि किसी का ज्यादा किसीका कम हार्मोन कम बनाती है जिसे हाइपर हाइपो थाइरॉइड कहते है एलोपैथ मे इनकी अलग अलग दवाई होती है हाइपर का कम होता है वजन हाइपो का बढ़ता है पर कुदरत के आगे सब विवश है धनिया के अंदर ऐसे गुण पाए जाते है ये चटनी हो जूस हो या धनिया का बीज हो उसका काढ़ा इस्तेमाल करने से हमारा किसी भी तरह का थायरोइड को जड़ से खत्म करती है पर हर तीन महीने पर आप अपना थाइरॉइड जरूर टेस्ट करीर

धनिया पत्ती त्वचा रोग में फायदेमंद है

त्वचा रोग से जो लोग परेशान है खारिश खुजली दाद कइयों को दाफड़ जिसे शीत पित्त कई लोग खारिश कहते है उनके लिए धनिये कि चटनी और धनिया का शर्बत बहुत फायदेमंद है उनमें एंटी फंगल और एंटी बैक्टीरियल गुण पाए जाते है जिससे आपके त्वचा रोग मे ये बहुत फायदा पाहुचाती है । जड़ से ठीक हो जातीहै त्वचा के नीचे जो ग्रंथिया होती है वो ऑइल भी बनाती है त्वचा को सुंदर और लचीला भी बनाए रखती है नमी बनाए रखती है जिससे आपकी त्वचा हमेशा सुंदर दिखती है एक तरह से ये एंटी ऐजिंग का भी काम करती है

गठिया मे धनिया फायदेमंद

गठिया के रोग से जो भी लोग परेशान है घुटनों मे दर्द सूजन चाहे कोईभी आर्थराइटीस हो चाहे वायु से दर्द तंग कर रही है उनके लिए इसक पत्तों का काढ़ा बनाकर सुबह शाम पिने से बहुत फायदेमंद है इसका गरम गरम काढ़ा सेरुई और सूती सूती कपड़े मे भिगोकर सिकाई करके सेकने से बहुत फायदेमंद है।

धनिया का तेल

इसका तेल भी बनता है ‘

धनिया के पत्ते की चटनी 100 ग्राम 400 ग्राम तिल का तेल लेकर अच्छे से पका लीजिए चटनी से पनि का अंश खत्म हो जाए आपका तेल तैयार है उस तेल को छानकर उससे मालिश करने से गठीया के रोगी के लिए बहुत फायदेमंद है

इसक अंदर कैल्सीयम कई तरहके vitamins भी पाए जाते है तो इसका गठिया या वात के रोगी के लिए ये बहुत फायदेमंद है

धनिया पत्ती के नुकसान

इसका जरूरत से ज्यादा मात्रा मे इस्तेमाल करने से हमारी काम शक्ति में कमी आती है

जिन महिलाओको मासिक धर्म कम आता है वो धनिया की चटनी और शर्बत का इस्तरेमल न करें नहि तो उनका मासिक धर्म बंद हो जाएगा उनके लिए फायदा है जिनको ज्यादा मात्र मेब्लीडिंग होती है पर जिनको खुलकर ब्लीडिंग नहीं होती है वो लोग धनिया पत्ती का इस्तेमाल न करें ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: