shuddha ghee khane ke faayde

घी दुनिया की सबसे बड़ी दवा है ये बहुत कम लोग है जानते है वैसे तो हर घर में घी का उपयोग होता है पर घी के इतने फायदे शायद ही लोग जानते होगे घी के अनगिनत फायदे होने के कारण ही इसे इतना महत्व दिया जाता है। घी का सेवन शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों के लिए ही फायदेमंद है।  बच्चे बूढ़े जवान सबके लिए घी बहुत जरुरी तत्त्व है ,हमारे दिमाग को सुचारू रूप से काम करने लिए घी से अच्छी टॉनिक कोई हो ही नही सकती

आचार्य बाग़भट्ट ऋषि अपने शाष्टांगह्रदय ग्रन्थ में घी के सभी गुणों का विस्तृत वर्णन किया है.उनके सूत्रों के अनुसार घी में निम्न लिखित फायदे हैं

1: स्मृति बढ़ने में सहायक

घी स्मृति बढाने में सहायक होती है दिमाग की हर परेशानियों को दूर करता है अगर किसी को समझने में याद करने में और दुबारा किसी याद की गई चीज को रिकॉल करने में बहुत मदद करता है .

2: दिमाग को स्वस्थ रखता है

विज्ञान के अनुसार हमारे शारीर का २५ % कोलेस्ट्रोल दमाग में पाया जाता है इसका मतलब दमाग में कोलेस्ट्रोल की मात्रा अधिक होती मतलब दिमाग चिकनी चीजों से बना है जो दमाग को सुचारू रूप से काम करने में सहायक है .और घी सबसे अच्छा कोलेस्ट्रोल माना जाता है दिमाग के सभी काम चाहे याद करना हो हरमोंन सीक्रेट करना या बिमारियों से बचाना हो उन सभी में घी एक सबसे अच्छी दावा है ऐसे सभी लोग जो दिमाग का काम करते है या दिमागी काम करने वाले डॉक्टर इंजिनीअर C.A ऐसे सभी वर्ग के लोग जो दिमागी परेशानियों से परेशान है और दिमाग का अच्छा टॉनिक खोज रहे है उसके लिए घी सबसे अच्छी दवा है

3: पाचन करने में सहायक

घी सभी तरह के पाचन में बहुत ही महत्वपूर्ण होता है खाश करके हमारी जठरअग्नि को बढ़ता है जिनकी पाचन अग्नि कमजोर है जिनको अपनी हाजमा शक्ति बढानी है उनके लिए घी सबसे अच्छी दवा है घी सभी तरह के मेटाबोलिज्म चाहे फैट का हो चाहे प्रोटीन का हो ठीक रखने में सहायक होती है पाचन शक्ति कमजोर होने का सीधा मतलब है कई तरह की बीमारियों को न्यौता देना। अगर हमारी पाचन शक्ति कमजोर है जो कुछ भी गलत खाने से तुरंत हाजमा खराब हो जाता है। आयुर्वेद में बताया गया है कि घी का सेवन करने से पाचन शक्ति मजबूत होती है।

4: ताक़त बढाता है घी

दीर्घायु और स्वस्थ बनाता है घी लम्बा और स्वस्थ जीवन जीने के लिए घी खाना जरूरी है हमारे शरीर में सात तरह की धातुए होती है रस रक्त मॉस मेध अस्थि मज्जा शुक्र ये धातुए हमारे शारीर को धारण करने का रखने का काम करती है .इन सभी धातुवो को घी पोषित करता है

5: आँखों के लिए वरदान है

अगर आप चाहते है आपकी आंखे लम्बे संमय तक सुरक्षित रहे आँखों में किसी तरह की बिमारी नही हो तो घी आँखों के लिए एक बहुत अच्छा टॉनिक है आजके मोबाइल कंप्यूटर के दौर में घी का का उपयोग आँखों के लिए बहुत जरूरी है.

6: शरीर की चमक और कान्ति के लिए

घी आपको अंदर से और बाहर से दोनों से सुन्दर बनाएगा ये आपके चेहरे पर चमक लायेगा और सॉफ्ट बनाएगा . घी खाने से बुढ़ापा जल्दी नही आता चहरे पर जल्दी झुर्रियां नही पड़ती है.चेहरा चमकदार बना रहता है . आज के विज्ञान के अनुसार

7: अच्छे स्वर के लिए

जो लोग गायन का संगीत के फील्ड में है जिनको गाना पसंद है या जो लोग भाषण देते है जिनको आवाज से सम्बंधित कोई काम करना है है उनके लिए घी बहुत अच्छी दवा है अच्छी और मधुर आवाज के लिए घी खाना जरुरी है .

बीमारियों में घी के फायदे

घी केवल स्वस्थ लोगो के लिए तो जरूरी है ही बीमार लोगो के लिए भी दवा का काम करता है

  1. 1: ऐसे लोग जिनका शारीर पतला हो गया है शारीर का वजन कम हो रहा हो जैसे टीवी H.I.V जैसे बिमारी कैंसर होने और शरीर का वजन कम हो जाता है जिसमे मरीज कमजोर दुबला और पतला हो गया हो ऐसे सभी लोग जो जन्म से ही कमजोर और दुबले पतले है उन सबके लिए घी एक सर्वश्रेष्ठ दवा है .
  2. ऐसे लोग जिनको कभी न कभी चोट लगी हो जिससे हमेसा दर्द बना रहता है तो घी गरम पानी के साथ जरूर पीना चाहिए .
  3. हरोई नाम एक बीमारी में घी बहुत फायदेमंद होता है इसे आम भाषा में नागिन भी कहा जाता है उस बीमारी में जब शरीर में बहुत ज्यादा जलन होती है तो घी सबसे अच्छा उपाय है
  4. ऐसे लोग जिनको बहुत जलन होती है उन्हें भी घी खाना चाहिए .जो लोग जल गये है या आग के आस पास काम करते है जैसे रसोइया मार्केटिंग के लोग ऐसे लोगो को घी जरुर खाना चाहिए
  5. वात हवा के कारण होने वाली 8० से ज्यादा बिमारिया सभी तरह के दर्द या ज्वाइंट से सम्बंधित जितने भी समस्या और पित्त से सम्बंधित सभी बिमारीया मिलाकर १२० से ज्यादा बीमारियों को ठीक करने की ताक़त घी के अन्दर है वात और पित्त की सभी बिमारियों में घी एक परफेक्ट दवा है अगर वात और पित्त को कण्ट्रोल करना है तो उसमे घी सर्वश्रेष्ठ है
  6. विष सभी तरह के जहर को मारने की ताक़त है घी में।आजकल खेतो में युरिया केमिकल खाद डाले जाते है जो एक तरह से हमारे शारीर के लिए विष का काम करता है हम परफ्यूम लगते है या प्रदुषण की वजह से होने वाले विष या फिर दवाइयों के साइड इफ़ेक्ट पेन किलर के दुष्प्रभाव को खत्म करने के लिए सबसे अच्छी दवा है घी .घी हर तरह के विष को खत्म करता है आज की दुनिया में विष से बचकर रहना है तो खाना घी में बनाइए और खाने में घी का सेवन जरुर करिए
  7. उन्माद आज की दुनिय में सभी को कोई न कोई मानसिक तकलीफ है तनाव गुस्सा चिंता बेचैनी ऐसे हर तरह के परेशानियों को कण्ट्रोल और शांत करने के लिए घी सर्वश्रेष्ठ है आजकल लोग छोटी छोटी बातो पर गुस्सा हो जाते है ऐसे सभी लोगो के लिए जिनका दमाग hayper रहता मानसिक रोग या दिमाग की किसी भी समस्या में घी बहुत बढ़िया है
  8. सूखापन :जब भी शरीर सूखने लगे चाहे बुढापे की वजह से या बीमारी की वजह से या फिर इंटरनल ऑर्गन दिमाग सिकुड़ कर छोटा होने लगे किडनी लीवर का साइज़ सिकुड़ कर छोटा होने लगे उन सभी बीमारी में घी सबसे अच्छी औषधि है
  9. औरतों से सम्बंधित बीमारियों:औरतों से सम्बंधित बीमारियों में घी जरुर प्रयोग करना चाहिए जब मासिक धर्म शुरू होता उस वक़्त जो भी समस्या होती उस टाइम घी का सेवन जरुर करे .जितने भी योनी रोग है उन सभी का कारण वात है और घी हवा और गर्म को कण्ट्रोल करने की एक परफेक्ट दवा है .
  10. गर्भावस्था के दौरान बहुत से परिवर्तन होते हैं उस वक़्त तो घी खाना ही चाहिए डिलीवरी के बाद बहुत सी बीमारियाँ होती है जैसे सुजन होना शरीर में जोड़ों का कमर का दर्द होना उन सभी समस्याओ में घी बहुत अच्छा टॉनिक है घी घाव को भरता है और बीमारी से बाहर आने के लिए एक टॉनिक का काम करता है
  11. जब मासिक धर्म बंद होता है जिसे मेनोपोज कहते है उस समय कई तरह की परेशानी जैसे गुस्सा होना चिडचिडापन जोड़ो में दर्द याददास्त कम होना या अचानक से शरीर फुल जाना इस सभी समस्याओ का कारण हव और गर्मी है सभी बीमारियों में घी जरुर खाना चाहिए महिलाये बहुत चिंता करती हो किसी भी तरह की चिंता या तनाव के कारण शरीर की रस धातु बिगड़ जाती है जिसकी वजह से मासिक धर्म समय से नही आता इन सबको सही करने के लिए घी बहुत अच्छी दवा है
  12. घी खाने से मन प्रसन्न होता है घी खाने से शरीर में चिकनापन और स्नेह बढ़ता है घी खाने से मन प्रसन्न रहता है .और मन प्रशन्न है तो सब प्रशन्न रहते है ऐसे महिलाये जो सभी उपाय कर ली फिर भी गर्भ धारण नही हो रहा ऐसे में घी का सेवन उन्हें एक सकारात्मक परिणाम दे सकता है .
  13. ज्वर में फायदेमंद घी ऐसे सभी तरह के ज्वर जो 15 दिन के उपर है जिसे जीर्ण ज्वर कहते है .कई लोग ऐसे होते है जिनका शरीर गरम लगता होगा हमेसा बुखार सा लगता है उन सभी लोगो के लिए घी एक बहुत अच्छी दवा है साथ ही ऐसे बीमारी जिसमे पहले ज्वर हुआ हो उसक बाद तकलीफ हो रही हो जैसे चिकनगुनिया डेंगू वायरल फीवर इनमे जब बिमारी ख़तम हो जाती है तो कई तरह की समस्या हो जाती है ऐसे में घी बीमारी के बाद के साइड इफ़ेक्ट को ख़तम करता है
  14. लम्बी चलनी वाली बीमारी स्किन डिसऑर्डर जिसमे हमेशा फीवर बना रहता है उन सभी में घी परफेक्ट दवा है ज्वर के साइड फेक्ट ख़तम करता है
  15. जितनी भी चिकनी चीजें है इस संसार में उन सभी में घी सबसे अच्छा है यह ठंडा है और दिमाग और शरीर की गर्मी को कम करने में मदद करता है जिनको जवान रहना है जिनको उम्र कण्ट्रोल करके रखना है उन सबके लिए घी बहुत अच्छा आप्शन है.
  16. बाग्बत्त ऋषि कहते है ये परम औषधि है .अगर जवान बने रहना है तो घी सर्वश्रेष्ठ है इससे त्वचा मुलायम बनी रहेगी
  17. घी टोटल सैचुरेटेड फैट है तेल पाली सैचुरेटेड है तेल को ज्यादा गरम किया जाए तो उसमे विष बनने लगता है टोक्सिन हो जाता है परन्तु घी अपने गुणों को संभाल के रखता है .
  18. घी मे सभी तरह के लिपिड soluble विटामिन पाए जाते है.
  19. ऐसे लोग जो दूध नही पी सकते जिनको गेहू की चीजो से एलर्जी उनके लिए घी बढ़िया उपाय है घी टोक्सिन निकलता और मेटाबोलिज्म को सुधारता है

वैसे तो घी सबको खाना चाहिए पर कुछ लोग जिनको घी जरुर खाना चाहिए चहिये .

बच्चे जो 16 साल के उम्र के निचे के बच्चे है उनको जरुर घी खान चाहिए जो बच्चे ठीक से खाना नहीं खाते या पढ़ाई में मन नही लगता है ऐसे बच्चो को घी जरुर खाना चाहिए .क्योकि घी दमाग के लिए एक पेरफ़ेक्ट टॉनिक है और पाचन भी बढाता है जिन बच्चो को दिमाग तेज करना हो उन्हें जरुर घी खाना चाहिए जो बच्चे दूध पसंद नही करते उनको घी खिलायें,घी में दूध के सारे पोषक तत्त्व मिल जायेगे

0 से 16 साल तक बच्चो में कफ की मात्र ज्यादा रहती है और दूध कफ बढ़ता और पाचन अग्नि को मंद करता है और इसलिए घी खिलने से और अच्छा है उसके लिए बच्चो को घी मिलाकर खाना दीजिये उसे दूध के सभी पोषण आराम से मिल जायेगी

वृद्ध को

४० साल के बाद ३५ साल तक माँ का दूध हमरे शरीर की रच्छा करता है ३५ से ४० के बाद हमारे शरीर का डिजनरेशन शुरू हो जाता है खाशकर महिलो में जब उनका मासिक धरम बंद हो जाता है उनको कई बिमारियां होती है तो जिनकी उम्र बढ़ रही उनके लिए घी सर्वश्रेष्ठ टॉनिक है ये आपको टानिक का भी काम करेगा और बुढापे से होने वाली बीमारियों से बचाएगा

इसलिए घी खाइए और जीवन भर स्वस्थ रहिये .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: