kabj (constipation) home remedy

अनियमित दिनचर्या और खान-पान के कारण कब्ज की समस्या होना आम बात है।आज ज्यादातर लोग कब्ज (kabj/constipation) की समस्या से परेशान है। भोजन के बाद बैठे रहने और रात के खाने के बाद सीधे सो जाने जैसी आदतें कब्ज के लिए जिम्मेदार होती हैं।  कब्ज सिर्फ एक परेशानी या रोग नही है ये कई रोगों की जड़ है.कभी कभी ये इतनी विकराल समस्या  बन जाती है. सब समझ नही पाते कैसे इस समस्या से निजात पाएं . इसलिए कब्ज के लक्षणों (Kabj ke lakshan) को नजरअंदाज ना करें बल्कि इसका इलाज कराएं kabj (constipation) home remedy। आयुर्वेद में कब्ज की समस्या के लिए अनेक घरेलू उपाय (kabj (constipation) home remedy) बताए गए हैं। आप इन असरदार उपायों से आसानी से कब्ज का घरेलू उपचार कर सकते हैं।इस पोस्ट में हम जानेगे कब्झोने क कारण उसक हानिकारक प्रभाव और उसे कैसे ठीक किया जाये उसक कुछ घरेलु उपाय क बारे में .

naabhi me tel lagane k faayde

कब्ज क्या है – What is Constipation ?

कब्ज होना मतलब शरीर को उचित मात्रा मे पानी और चिकनाई( वसा) नही मिल पाना जिसके कारण मल का शुष्क हो जाना ।शुष्क मल सख्त हो जाता है और मल त्याग करते समय बहुत जोर लगाना पड़ता है।जिससे मल त्याग करते समय बहुत परेशानी और तकलीफ होती है इस प्रकार शुष्क मल सख्त होने और रूकने की प्रक्रिया को ही कब्ज रोग कहते है।कब्ज का सीधा-सा अर्थ है मल उतरने की क्रिया का विकृत हो जाना।

आयुर्वेद के अनुसार, हमारे शरीर का संतुलन वात, पित्त और कफ दोषों पर निर्भर करता है। इनमे जब असंतुलन होता है तो उसके कारण शरीर के तरह के रोगों का शिकार हो जाता है। खान-पान एवं जीवनशैली में लापरवाही के कारण जब हमारी जठराग्नि मन्द हो जाती है, तथा आहार ठीक प्रकार से समय से नहीं पचता। इससे शरीर के दोष असंतुलित तथा दूषित होकर रोग उत्पन्न करते हैं। कब्ज में मुख्य रूप से वात दोष होता है, जिस कारण मल सूखा एवं कठोर हो जाता है। सही समय पर मलत्याग नहीं हो पाता।

weightloss tea

कब्ज होने के कारण (Constipation Causes )

कब्ज होने के बहुत से कारण हो सकते है लेकिन पेट से जुड़ी परेशानी होने पर इसका सही समय पर इलाज करवाना बहुत जरूरी है।

  • मैदे से बने एवं तले भुने हुए मिर्च-मसालेदार भोजन का सेवन करने से कब्ज की समस्या होती है
  • पानी की पर्याप्त मात्रा न पीना और तरल पदार्थों का सेवन न करना भी कब्ज की वजह बन सकता है
  • सही समय पर भोजन ना करना।
  • रात में देर से भोजन करना।
  • देर रात तक जागने की आदतभी कब्ज की परेसानी का कारण बन सकती है ।
  • ज्यादा मात्रा में कॉफी,  चाय,  तंबाकू या सिगरेट आदि का सेवन करना।
  • भोजन पचे बिना ही दोबारा भोजन करना।
  • चिन्ता तनावयुक्त जीवन ।
  • Hormones का असंतुलन की वजह से।हॉर्मोन्स के असंतुलन या thyroid के वजह से कब्ज की शिकायत होती है
  • लंबे समय तक दर्द निवारक दवाइयों का प्रयोग करना।छोटी- छोटी बीमारियों जैसे कि पेट दर्द, सिर दर्द इत्यादि से तुरंत निजात पाने के लिये तुरंत दवाई खा लेना। छोटी-मोटी बीमारियों के लिए दवा खाने से बहुत से side effects हो सकते है जिसमें से एक कब्ज भी है।
  • वजन घटाने के लिए डाइटिंग करना
  • मेटाबॉलिजम का कम होना
  • लगातार एक ही जगह पर बैठे रहकर काम करना या ।
  • एक ही प्रकार का भोजन खाना
  • फाइबर या रेशेदार युक्त्त भोजन का कम इस्तेमाल करना फाइबर भोजन को पचाने में आंतों की मदद करता है।
  • पानी कम पीना फाइबर को अच्छी तरह से काम करने के लिए पानी की जरूरत पड़ती है। पानी की कमी की वजह से आँते (intestine) सुख जाती है और कब्ज की समस्या उत्पन्न होती है।
  • Health supplements जैसे कि आयरनऔर कैल्शियम के सप्लीमेंट अधिक खाने से भी कब्ज की समस्या उत्पन्न हो सकती है। इसलिए हमें इस तरह के health supplements के बजाय पौष्टिक भोजन पर अधिक ध्यान देना चाहिए।

कब्ज के लक्षण (Constipation Symptoms

  • कुंथन करने पर ही मलत्याग होना।
  • पेट में गैस बनना।
  • मल का सख्त (कठोर) एवं सूखा होना।
  • सिर में दर्द रहना।
  • बदहजमी
  • बिना श्रम के ही आलस्य बने रहना।
  • पिण्डिलियों में दर्द रहना।
  • मुंह से दुर्गन्ध आना।
  • पेट में जलन होना तथा हमेशा भारीपन महसूस करना 
  • मुंह में छाले पड़ना 
  • छाती में जलन होना
  • उल्टी महसूस  होना 
  • मुंह का अल्सर होना 
  • चेहरे पर मुंहासे निकल आना
  • शौच करने के बाद भी पेट पूरी तरह साफ नहीं लगना
  • उल्टी महसूस  होना 
  • कमजोरी महसूस करना

कब्ज (kabj) के हानिकारक प्रभाव – Harmful effects of constipation

  • बवासीर होना
  • भगंदर होना
  • आंतो में जख्म व सूजन हो जाना
  • हमेशा पेट में भारीपन तथा जलन महसूस करना।

kabj (constipation) home remedy

1.निम्बू कला नमक– Lemon black salt

एक liter पानी में 1 निम्बू का रस तथा काला मिलाकर रोज सुबह में उठाते ही इसका सेवन करे। कुछ ही दिनों में फायदा मिलेगा। जब तक कब्ज पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाती है तब इसका सेवन करें।

2. पपीता – Papaya

प्रतिदिन सुबह खाली पेट पका हुआ पपीता का सेवन करें। पपीता मे तो वैसे भी बहुत से बीमारियों से लड़ने की क्षमता वरदान करता है। यह मल को मुलायम कर पेट को साफ करता है। और कब्ज की बहुत अच्छी दवा है।खाने में भी स्वादिष्ठ है तो बच्चे बड़े बूढ़े सब आसानी से इसका सेवन कर सकते है

3. अरंडी का तेल – Castor oil

एक गिलास पानी में एक चम्मच अरंडी का तेल तथा आधा निम्बू का रस मिलाकर सुबह खाली पेट सेवन करने से कब्ज की समस्या में राहत मिलती है । इसका सेवन डॉक्टर के सलाह के बिना अधिक दिन तक नहीं करें। या फिर सोते समय अरंडी के तेल को हल्के गर्म दूध में मिलाकर पी सकते हैं। इससे पेट साफ होता है, और कब्ज की समस्या नहीं होती।

4. शहद – Honey

एक गिलास गुनगुने (हल्के गर्म) पानी मे एक चम्मच शहद तथा आधा निम्बू मिलाकर रोज सुबह खाली पेट सेवन करने से कब्ज में आराम मिलता है ।

5. किशमिश – Raisins

दो गिलास पानी को उबाल ले तथा 150-200 ग्राम किशमिश (kishmish) को धोकर उबाले गए पानी में डाल दे और रात भर छोड़ दे। अगली सुबह उठकर पानी को छान ले तथा इस पानी को खाली पेट पीएं।

6. अलसी (तीसी) का बीज – Flax seeds

अलसी के बीज को हल्का भूनकर दरदरा पीस ले लगभग एक चम्मच अलसी बीज का पाउडर पानी के साथ सेवन करे। अलसी के बीज में फाइबर अधिक पाया जाता है जो खाने को आसानी से हजम करने में मदद करता है।

7. बेल – Bel

बेल का शर्बत कब्ज को ठीक करने में बहुत मदद करता है। इसमें फाइबर की मात्रा अधिक पायी जाती है। इसका सेवन खाना खाने के 2-3 घंटे पहले करे तो बहुत ही अच्छा है। बेल का शर्बत पेट के लिए बहुत अच्छा होता है ।

8. इसबगोल की भूसी – Isbgol bhusi/Psyllium husk

इसबगोल की भूसी कब्ज में बहुत ही राहत प्रदान करता है। एक चम्मच भूसी आधा ग्लास पानी लकर पी जाएं।परंतु ये उपाय 5 दिन से अधिक न रें नही तो इससबगोल पर नीरभर हो जायेगे ।

रात का रखा हुआ एक लीटर पानी हर रोज सुबह सूर्योदय से पूर्व बासी मुंह पीने से कभी कब्ज़ियत नहीं होगी तथा अन्य रोगों से भी सुरक्षा होगी। बासी मुुुह पानी पीने के बहुुुत लाभ है ।

एक चम्मच आंवले का चूर्ण रात को दूध के साथ लेने से कब्ज़ दूर हो जाती है।

लीची का रोज खाने से कब्ज़ दूर हो जाती है।

प्रतिदिन दूध के साथ गुलकंद खाने से कब्ज़ दूर हो जाती है। नीम की पक्की निबौलियां चुसने से कब्ज़ दूर हो जाती है।

स्थायी रूप से रहने वाली कब्ज अंजीर खाने से दूर हो जाती है। रात को 2 से तीन अंजीर पानी में भिगो दें सुबह खाली पेट सेवन करें।

गर्म पानी,नींबू और कैस्टर ऑयल

सुबह खाली पेट एक कप गर्म पानी में आधा नींबू निचोड़ कर इसमें एक छोटा चम्मच आरंडी यानि कैस्टर ऑयल डाल कर पी लें। इसे पीने के 15-20 मिनट बाद पेट साफ हो जाएगा। इसके अलावा रात को सोने से पहले 1 गिलास गर्म दूध में 2-4 बूंद कैस्टर ऑयल की डालकर पीएं। इससे सुबह पेट आसानी से साफ हो जाएगा।सुबह खाली पेट आधे नींबू के रस में काला नमक मिलाकर गुनगुने पानी के साथ सेवन कर लें। इससे पेट से जुड़ी समस्याएं दूर हो जाएगी।

त्रिफला

रात को एक चम्मच त्रिफला चूर्ण पानी के साथ खाने से सुबह तक पूरी तरह आराम हो जाएगा पेट पूरी तरह साफ हो जाएगा

सुबह उठकर प्रतिदिन खाली पेट, 4 से 5 काजू, उतने ही मुनक्का के साथ मिलाकर खाने से भी, कब्ज की शिकायत समाप्त हो जाती है। इसके अलावा रात को सोने से पहले 6 से 7 मुनक्का खाने से भी कब्ज ठीक हो जाता है।

प्रतिदिन रात में हरड़ के चूर्ण खाना खाने के बाद लेने से कब्ज शिकायत नही रहती है।

पालक भी कब्ज के मरीजों के लिए एक अच्छा विकल्प है। प्रतिदिन पालक के रस को दिनचर्या में शामिल कर, आप कब्ज से आजाादी पा सकते हैं, साथ ही इसकी सब्जी भी सेहत के लिए अच्छी होती है। लेकिन अगर आप पथरी के मरीज हैं, तो इसका इस्तेमाल न करें।

uric acid problem solution

कब्ज में परहेज (Avoid These in Constipation)

  1. तले हुए खाद्य पदार्थ जैसे कि पापड़ चिप्स तथा चाट-पकौड़े का उपयोग न करें।
  2. चाय-कॉफी काम पिये हो सके तो न पीजिये
  3. जंक फूड जैसे कि मैगी नूडल्स बर्गर, पिज्जा, पास्ता इत्यादि का सेवन न करे।
  4. दूध का ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए।
  5. मैदे से बनी सामग्री का सेवन न करें।
  6. कब्ज में बहुत ही ठंडे जैसे कि गुल्फी, आइसक्रीम, कोल्ड ड्रिंक इत्यादि के सेवन न करें ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: