Pain relief antibiotic herbal tea/weight loss tea

आज के समय मे हर इंसान किसी न किसी शारिरिक परेशानी से जूझ रहा है । चाहे बच्चा हो या बूढा हर कोई बीमारियों से घिरा हुआ है।ऐसे में सोचने वाली बात ये है कि मेडिकल साइन्स जब इतना तरक्की कर लिया फिर भी लोगो की बीमारी ठीक क्यो नही हो रही । एक बीमारी के बाद दूसरी दूसरी के बाद तीसरी उसके बाद इंसान खाने से ज्यादा दवाईओ का सेवन करने लगता है ।आयुर्वेद एक ऐसी पद्धति है जो बीमारियों को जड़ से खत्म करती है ।न कि उसे दबाती है । प्रकृति ने हमे इतना कुछ दिया है जो हमें पूरी तरह से स्वास्थ्य रहने के लिए बहुत ज्यादा है । अगर उसका कुछ अंश भी हम समझ जाएं ,जान जाए तो हम अपना इलाज खुद कर सकते है

आयुर्वेद कहता है अपने डॉक्टर खुद बनो क्योकि आप अपनी बॉडी को जितनी अच्छी तह समझ सकते है कोई और नही समझ सकता ।और अपना डाक्टर बनने के लिए आपको जानकारी की सबसे ज्यादा जरूरत है और वो ऐसे नही होगी ।परेशानी आएगी तो निदान खोजेंगे जब निदान खोजेंगे यो उसका निदान अवश्य मिलेगा ।

और ये मैं ऐसे ही नही लिख रही ये मेरा खुद का अनुभव कहता है ।

इस मे आप रेसिपी तो जानेंगे ही साथ मे उसमे उपयोग की गई सामग्री के क्या गुण है क्यो आपकी परेसानी को समाप्त करता ये सब जानकारी साझा करुँगी

सामग्री:-

हल्दी

हल्दी के बारे में कौन नही जानता इसके गुन किसी से नही छुपे।हल्दी इस दुनिया की सबसे अच्छी दर्द निवारक और एंटीबायोटिक है शरीर में कही भी दर्द हो सूजन हो ।हल्दी का सेवन तुरन्त आराम देता है । अब आप कहेंगे हल्दी तो बहुत गर्म होती है । है तासीर गरम होती है इसकी, पर सब्जी में डाल में हम रोज सेवन करते हल्दी का अगर गरम नही करती तो इसको दवा के रूप में लेने से कैसे गर्म करेगी ।हल्दी को अगर पानी मे लिया जाए यो ये गरम नही करती। और तुरन्त आराम भी देती यह हम वही विधि बतायेगे कैसे हमे ये हल्दी की tea बनानी है हल्दी में करक्यूमिन नामक रसायन पाया जाता है जो दवा के रूप में काम करता है और यह शरीर की सूजन कम करने में सहायक होता है.

दालचीनी

दालचीनी में कैल्शियम, एंटीओक्सीडेंट ,मेंगनीज,आइरन और पौलिफेनोल पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं । और साथ में कार्बोहाइड्रेट, फैटी एसिड और अमीनो एसिड होते है। शरीर को स्वास्थ रखने में मदद करता है । इसके आलावा दालचीनी में शक्तिशाली रोगाणुरोधी ,एंटी इन्फ़्लेमेट्रि,संक्रामक विरोधी और एंटी क्लोटिंग गुण होते है। अब आए जाने दालचीनी हमारे स्वास्थ के लिए किस प्रकार फायदेमंद है जिससे हम अपने शरीर में होने वाली बीमारियो से लड़ पाये।

अदरक:

अदरक म्यूकस को कण्ट्रोल करता है . अदरक में जिंजरोल नामक एक बहुत असरदार पदार्थ होता है जो जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द को कम करता है। एक अध्ययन के मुताबिक, अदरक गंभीर और स्थायी इंफ्लामेटरी रोगों के लिए एक असरकारी उपचार है।कई और वैज्ञानिक अध्ययन भी जोड़ों के दर्द में अदरक के असर की पुष्टि करते हैं। गठिया के शुरुआती चरणों में यह खास तौर पर असरकारी होता है। ऑस्टियोआर्थराइटिस से पीड़ित बहुत से मरीजों ने नियमित तौर पर अदरक के सेवन से दर्द कम होने और बेहतर गतिशीलता का अनुभव किया।

बनाने की विधि :

सबसे पहले एक पैन में 400ml पानी ले। गैस पर चढ़ा दे जब पानी गर्म हो जाये तो उसमें दालचीनी का एक टुकड़ा डाल दे उसके अच्छी तरह पकाये ।इतना पका लें कि दलचीनी का अर्क निकल जाए पानी मे। फिर गैस को एकदम कम कर ले। उसके बाद आधा tea स्पून हल्दी और आधा tea स्पून अदरक का जूस डाल दे और उसे 40 से 50 सेकंड के लिए कम आंच पर पकाएं ।उसके बाद गैस बंद कर दे ।इसे 150 ml सुबह दोपहर शाम पी सकते है । ऊनी सुविधानुसार 100 ml तीन टाइम भी पी सकते है ।जैसे 100 ml सुबह 100 मल दोपहर 100 मल शाम को ।

लाभ:-

दर्द में तुरन्त आराम देता है ।सबसे बढ़िया दर्द निवारक है ।ये ड्रिंक इम्यून भी सही करता है सर्दी जुकाम बुखार में भी बहुत अच्छा काम करता है । जिनको सूजन रहती है शरीर मे उसके लिए भी बहुत ही फायदेमंद है । बुखार जुकाम सर्दी खांसी में भी असरदार है वजन कम करने में भी सहायक है । थाइरोइड शुगर b.p जैसे रोग में भी बहुत ही असरकरी है ।चेहरे का ग्लो बढ़ जाता है बॉडी से infection खत्म हो जाता है ।और अंत मे ये इस वक़्त जो वायरस का प्रकोप उससे बचने में भी सहायता करेगा ।

नोट:

जब भी ले हल्दी को बर्तन की तली में बैठ जाने दे फिर ले।और हल्का गुनगुना ले ।आपको सर्दी खासी हो तब गरम ले सकते है ।

2 thoughts on “Pain relief antibiotic herbal tea/weight loss tea

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: