3 type musturd cake fertilizer (Sarso khali ki khad)

खली मुख्यरूप से नीम, मूंगफली और तिल जैसी फसलों के तेल निकालने के बाद जो भी बचा हुआ पदार्थ मिलता है, उसे खली कहते हैं। हानिकारक रसायनिक खादों की तुलना में खली खाद अच्छा काम करती है और इस खाद का मिट्टी पर भी कोई हानिकारक प्रभाव नहीं होता है.

आजकल हम फसलों से ज्यादा उपज पाने के लिए यूरिया DAP जैसे रासायनिक खाद का उपयोग करते है जो हमारे लिए विष के सामान है उनके उपयोग की वजह से न सिर्फ हमारे उपर बुरा असर पड़ता है बल्कि धीरे धीरे मिटटी की उर्वरा शक्ति भी कम होने लगती है .

इस तरह क रासायनिक खाद की वजह से आज बहुत सारी बीमारियाँ हमे घेरे हुई है ऐसे में इस तरह के जैविक (organic) खाद से पैदावार की बढ़त भी हो सकती है और हम स्वस्थ भी रह सकते है बहुत से लोग घर में भी गार्डनिंग का शौक रखते है उनक लिए ये बहुत ही अच्छा उपाय है और किसान भाइयो के लिए भी ।

मुख्यरूप से नीम, मूंगफली और तिल जैसी फसलों के तेल निकालने के बाद जो भी बचा हुआ पदार्थ मिलता है, उसे खली कहते हैं। हानिकारक रसायनिक खादों की तुलना में खली खाद अच्छा काम करती है और इस खाद का मिट्टी पर भी कोई बुरा प्रभाव नहीं होता है

सरसों कि खली में नाइट्रोजन 5.2 प्रतिशत, पोटाश 1.2 प्रतिशत तथा फास्फोरस 1.8 प्रतिशत पाया जाता है। इसलिए सरसों की खली जैविक खाद के रुप में तथा पशु पोषक तत्वों दोनों तरह से उपयोगी है।

इस खाद का फसलों में प्रयोग करने से फसल को गुणकारी तत्व मिलते हैं, जिससे पैदावार अच्छी होती है और मिट्टी में पाए जाने वाले खतरनाक कीटाणु भी खत्म हो जाते हैं।

सरसों की खली का उपयोग अपने बगीचे में और किचेन गार्डन में कैसे करें:

सरसों की खली का उपयोग बगीचे में चमत्कारी परिणाम देता है ।जिस पौधे में फूल फल नही आ रहे हो या कम आ रहे हो एक बार के उपयोग से असर दिखने लगेगा ।सरसों की खली पौधों की उपज बढ़ाने में बहुत उपयोगी है।इसे आप अपने फूलों वाले पौधों में हर 15 से 20 दिन पर उपयोग में लाते है तो आपकी बगिया भर जाएगी फूलों से।फलो वाले पौधे में भी बहुत अच्छा इसका परिणाम है पौधे फल ज्यादा और जल्दी देने लगते है और फल की गुणवत्ता भी आछो होती है।तो ये एक बहुत ही अच्छा विकल्प है रासायनिक खाद की जगह ।इससे हमें शुद्ध फल बिना किसी हनिकारक रसायन के तो मिलेंगे ही मिट्टी की उर्वरा शक्ति पर भी बुरा असर नही पड़ेगा ।तो आइए देखते है आपने गार्डन के लिए सरसो की खली का प्रयोग कैसे करते है कैसे इसकी खाद बनाते है । हम आपको तीन तरीके से खाद बनाने बतायेगे सरसो की खली का।

1. तरल खाद (liquid fertilizer)

अगर हम गमले में उपयोग कर रहे है तो तरल खाद बनाने के लिए हमे 250 ग्राम सरसो की खाली को 5 लीटर पानी में मिट्टी के मटके मे मिलॉकर छोड दे ।अगर मिट्टी का मटका न हो तो प्लास्टिक के किसी बर्तन में भी रख सकते है पर मिट्टी का बर्तन ज्यादा अच्छा होता है ।अब इस मिश्रण को अगर गर्मी का मौसम है तो 3 दिन काफी है इसे खाद बनने के लिए अगर ठंडी का मौसम है तो कम से कम 1 हफ्ते तक लग जाते है खाद बनने में । बीच बीच मे किसी भी चीज से उसे चलाते रहे ।उसके बाद जब खाद बनकर तैयार हो जाये तो इसे हमे सीधे गमलो में नही डालना है । अगर एक गिलास खाद ले रहे तो उसमें 10 ग्लास पानी मिलाये फिर पौधों को दे।अगर गर्मी का मौसम है तो कम से कम 15गिलास पानी मिलाये एक गिलास खाद में ।और हर गमले में पौधे की जरूरत के हिसाब से डाल दे ।

2 सूखी खाद (musturd cake dry fertilizer)

बाजार से सरसों की खली खरीदकर लाएं। खली को पौधों में डालने के लिए इस तरह पानी में भिगोकर तीन से चार दिन के लिए रखें उसके बाद वह एक गाढ़े पेस्ट के रूप में तैयार हो जाए। इस पेस्ट को मिट्टी में अच्छी तरह से मिलाकर इसे अपने गमलों में डालें। मिट्टी और खली का अनुपात 10:1 होना चाहिए यानी 10 किलो मिट्टी में 1 किलो खली मिलाएं। इसे गमलों में डालने के बाद मिट्टी की गुड़ाई कर दें ताकि खली वाली मिट्टी गमले की मिट्टी के साथ मिल जाए। इस विधि में मिट्टी बनाकर तुरन्त पौधे न लगाएं 1 हफ्ते का टाइम ले देखे कहि मिट्टी में कोई फंगस या कीड़े तो नही लग रहे फिर ।उसमें पौधे लगाएं।सरसो की खली का सबसे सरल और सुरक्षित तरीका लिक्विड खाद ही है ।

3 .सरसो की खाली का पाउडर (musturd cake powder fertilizer)

सरसो की खाली का पाउडर बनाकर उसे सीधे गमले में डाल सकते है और मिट्टी से दबा दे धीरे-धीरे वो मिट्टी में खाद बन जायेगा और मिट्टी को सारे पोषक तत्व मिलते रहेंगे पर इस विधि को गर्मी और बरसात में न अपनाये फंगस लगने का डर रहता है ।ठंडी के दिन में अपना सकते है। पर अगर आप पाउडर डाल रहे है तो बहुत ही कम मात्रा में गमले में एक साइड डाल दे । अगर ज्यादा डालेंगे तो कीड़े और फंगस लगने का डर रहता है जिससे पौधे मर सकते है ।पाउडर डालना हो तो मिट्टी में पाउडर डालकर 1 हफ्ते या दो हफ्ते बाद ही उसमे पौधे लगाए ।अगर आप गार्डनिंग में नए है तो कोशिश करें कि लिक्विड फॉर्म में ही फ़र्टिलाइज़र दे वरना पौधे को नुकसान पहुच सकता है

इसक आलावा केले के छिलके की खाद भी फूलों क लिए बहुत अच्छी होती है .अच्छे फूल और फल पाने क लिए आप प्याज क छिलके की खाद भी उपयोग में ला सकते है

4 thoughts on “3 type musturd cake fertilizer (Sarso khali ki khad)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: